मुझे याद आते है

Just another weblog

48 Posts

1104 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 7831 postid : 377

एक रुपया कहाँ से आया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

एक रुपया कहाँ से आया ! बहुत दिन हो गए दिमाग लगाते  हुए समझ में नहीं आ रहा कोई बता सकता है  क्या?

382263_10200147567786168_21567861_n

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

9 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Acharya Vijay Gunjan के द्वारा
March 19, 2013

चलिए आखिर आप को समाधान मिल ही गया , कविकुल श्रेष्ठ अग्रज समतुल्य आदरेय शशिभूषण जी से ! व्याकरण मेरा थोड़ा ठीक है पर गणित बिलकुल कमज़ोर ! हाँ — इतना ज़रूर आता है जितना से काम चल जाय और कहीं ठगाने की नौवत ना आए ! अच्छा लगा ! बधाई !!

akraktale के द्वारा
February 25, 2013

वाह! सरकारी बजट की रचना आपके हाथ लग ही गयी. आदरणीया दीप्ती जी यही एक रुपया तो सरकार गरीबों और विकास के कार्य पर खर्च कर रही है. बाकी के पचास से तो व्ही आयपी सुरक्षा ही बड़ी मुश्किल से हो पाती है.

shashi bhushan के द्वारा
February 24, 2013

आदरणीय प्रदीप भैया, सादर ! कोई क्यों ? चलिए हम आप ही चला जाय ! बोलिए, सायकिल से चलेंगे, मोटर साइकिल से चलेंगे, या फिर बस कर लिया जाय ! बुढ़ौती में थोड़ा स्विट्जर लैंड घूम लीजिये ! (दीप्ती जी, क्षमा !)

PRADEEP KUSHWAHA के द्वारा
February 24, 2013

आदरणीया दीप्ती जी सादर पुराना खेल पैसों का कोई न बतलाये जमा धन स्विस बैंको में कोई जा के ले आये बधाई.

shashi bhushan के द्वारा
February 24, 2013

आदरणीय दीप्ती जी, सादर ! यह प्रश्न ही गलत है ! बैलेंस का टोटल कभी भी खर्च के टोटल का समानुपाती नहीं होता ! मैं इसी पचास रुपये पर उदाहरण देता हूँ- मेरे पास पचास रुपये हैं- SPENT——-BALANCE —5————–45—— —5————–40—— –20————–20—— –20—————0——- . सधन्यवाद !

    D33P के द्वारा
    February 24, 2013

    आदरणीय  शशिभूषण जी .प्रणाम …इतनी बात हमारे दिमाग में फिट ही नहीं हुई हम वही लकीर के फ़कीर क्यूंकि जब हम कार्यालय में कैशबुक चेक करते है उसमे आय- व्यय और बकाया का पूरा हिसाब बराबर मिलना चाहिए एक रुपया भी कम या ज्यादा होना.हमारी नींद उड़ा देता है!आपका बहुत बहुत शुक्रिया

deepak khanduri के द्वारा
February 24, 2013

kisi bhi amount ko agar hum spent karte hue jodte jayenge to total amount aa jayega…lekin balance amount ko jod jod ke toatal amount aa jaye ye possible nahi hai. koi bhi amount le lijiye chahe 50 ho ya 5…..

jlsingh के द्वारा
February 24, 2013

मनमोहन सिंह से पूछना पड़ेगा!

    D33P के द्वारा
    February 24, 2013

    जवाहर जी नमस्कार .जब पता चल जाये तो हमें भी बता दीजियेगा


topic of the week



latest from jagran